Wednesday, May 29, 2024

नादान दोस्त

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_img

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Chapter 3 : नादान दोस्त

छठी कक्षा की पाठ्यपुस्तक “वसंत” की कहानी “नादान दोस्त” में हम दो दोस्तों, रामू और श्यामू से मिलते हैं। रामू बुद्धिमान और व्यावहारिक है, जबकि श्यामू भोला और सीधा है।

कहानी उनके विपरीत व्यक्तित्वों और विभिन्न चुनौतियों से कैसे निपटते हैं, इसके इर्द-गिर्द घूमती है। यहां एक संक्षिप्त सारांश है:

1. चिड़िया के अंडे:

  • उनके घर की छज्जे पर एक चिड़िया अंडे देती है।
  • रामू और श्यामू दोनों रोज चिड़िया और उसके अंडों को देखकर रोमांचित हो जाते हैं।
  • श्यामू का मानना है कि अंडे बोलने वाले पक्षियों में बदल जाएंगे, जो उनकी बचकानी मासूमियत का उदाहरण है।

2. चोरी हुई आम:

  • एक चोर उनके पड़ोसी के पेड़ से एक आम चुरा लेता है।
  • रामू अवलोकन के आधार पर चोर की पहचान को चतुराई से समझता है।
  • हालांकि, श्यामू का मानना है कि एक बंदर ने आम चुराया है, जो उसकी आलोचनात्मक सोचने में असमर्थता को दर्शाता है।

3. खोया हुआ हार:

  • श्यामू अपनी माँ का कीमती हार खो देता है।
  • रामू तर्क और कटौती का उपयोग करके खोए हुए हार को एक चालाक कौवे तक ले जाता है।
  • श्यामू भ्रमित रहता है लेकिन रामू की बुद्धिमत्ता की सराहना करता है।

4. आग:

  • उनके पड़ोस में आग लग जाती है।
  • रामू शांत रहता है और दूसरों को आग से बचने में मदद करता है।
  • श्यामू घबराता है और अफरा-तफरी में खो जाता है, जो उसके आवेगी स्वभाव को उजागर करता है।

5. सीखा गया पाठ:

  • इन साझा अनुभवों के माध्यम से, रामू और श्यामू बहुमूल्य सबक सीखते हैं।
  • रामू दूसरों की मदद करने और समस्याओं को हल करने के लिए तर्क का उपयोग करने के महत्व को समझता है।
  • श्यामू अधिक विचारशील और चौकस बनने के मूल्य का एहसास करता है।

अंत:

अपने मतभेदों के बावजूद, रामू और श्यामू दोस्त बने रहते हैं। कहानी विभिन्न व्यक्तित्वों वाले व्यक्तियों को समझने और उनकी सराहना करने के महत्व पर जोर देती है।

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Chapter 3 : नादान दोस्त

प्रश्न 1. कहानी से

1. रामू और श्यामू के व्यक्तित्व में क्या अंतर है?

उत्तर : रामू बुद्धिमान, व्यावहारिक और तर्कसंगत है। श्यामू भोला, सीधा, और भावुक है।

2. चिड़िया के अंडे को लेकर रामू और श्यामू की क्या सोच थी?

उत्तर :  रामू को चिड़िया के अंडों की देखभाल करने की चिंता थी। श्यामू का मानना था कि अंडे बोलने वाले पक्षियों में बदल जाएंगे।

3. चोरी हुई आम को लेकर रामू और श्यामू की क्या प्रतिक्रिया थी?

उत्तर : रामू ने चोर का पता लगाने के लिए अपने अवलोकन का उपयोग किया। श्यामू का मानना था कि एक बंदर ने आम चुराया है।

4. खोए हुए हार को लेकर रामू और श्यामू ने क्या किया?

उत्तर :  रामू ने तर्क और कटौती का उपयोग करके हार का पता लगाया। श्यामू रामू की मदद करने के लिए उत्सुक था।

5. आग लगने पर रामू और श्यामू ने क्या किया?

उत्तर : रामू ने शांत रहकर दूसरों को आग से बचने में मदद की। श्यामू घबरा गया और अफरा-तफरी में खो गया।

प्रश्न 2. कहानी से आगे  

 1.कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती है?

उत्तर : हमें विभिन्न व्यक्तित्वों वाले लोगों को समझना और उनकी सराहना करना चाहिए।

हमें तर्कसंगत सोच और व्यावहारिकता का उपयोग करना चाहिए।

हमें दूसरों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

2. कहानी में आपका पसंदीदा पात्र कौन है और क्यों?

उत्तर : मेरा पसंदीदा पात्र रामू है क्योंकि वह बुद्धिमान, व्यावहारिक और दूसरों की मदद करने वाला है।

3. आप कहानी में क्या बदलाव करना चाहेंगे?

उत्तर : मैं कहानी में श्यामू के चरित्र को और विकसित करना चाहूंगा।

मैं कहानी में कुछ और रोमांचक घटनाएं भी जोड़ना चाहूंगा।

4.  आप इस कहानी से क्या सीखे हैं?

उत्तर : मैंने इस कहानी से सीखा कि हमें विभिन्न व्यक्तित्वों वाले लोगों को समझना और उनकी सराहना करना चाहिए।

मैंने यह भी सीखा कि हमें तर्कसंगत सोच और व्यावहारिकता का उपयोग करना चाहिए।

5.  इस कहानी के बारे में आपके क्या विचार हैं?

उत्तर : यह एक अच्छी कहानी है जो हमें विभिन्न महत्वपूर्ण जीवन सबक सिखाती है।

कहानी भाषा में सरल और समझने में आसान है।

6. आप इस कहानी क्या नाम रखना चाहोगे?

उत्तर : यदि मुझे इस कहानी का नाम रखना होता, तो मैं इसे “दोस्ती की परीक्षा” नाम देता। यह नाम कहानी के मुख्य विषय को दर्शाता है, जो दोस्ती के बीच विश्वास और समझ की परीक्षा है।

यहां कुछ अन्य नाम हैं जो मैं इस कहानी के लिए सोच सकता हूं:

  • बुद्धि और भोलापन
  • अलग-अलग, फिर भी दोस्त
  • सीखने का अनुभव आप इस कहानी क्या नाम रखना चाहोगे?
  • आग की परीक्षा
  • हार का रहस्य
  • चिड़िया के अंडे

प्रश्न 3. अनुमान और कल्पना

1. यदि सर्दी या बरसात के दिन होते तो क्या होता?

उत्तर : कहानी “नादान दोस्त” में, यदि सर्दी या बरसात के दिन होते, तो कहानी में कुछ बदलाव ज़रूर होते:

1. चिड़िया के अंडे:

  • सर्दी में, अंडों को ठंड से बचाने के लिए रामू और श्यामू को अधिक सावधानी बरतनी पड़ती। उन्हें अंडों को गर्म रखने के लिए घोंसले में कपड़े या रूई रखनी पड़ सकती थी।
  • बरसात में, अंडों को पानी से बचाने के लिए उन्हें छज्जे पर एक टिन या प्लास्टिक की शीट रखनी पड़ सकती थी।

2. चोरी हुई आम:

  • सर्दी में, आम के पेड़ों पर आम नहीं होते, इसलिए चोरी की घटना नहीं होती।
  • बरसात में, यदि आम पके हुए होते, तो बारिश से आम खराब हो सकते थे, जिससे चोर को आम चुराने में मुश्किल होती।

3. खोया हुआ हार:

  • सर्दी में, श्यामू हार को अपने गर्म कपड़ों में छिपा सकता था, जिससे हार खोने की संभावना कम हो जाती।
  • बरसात में, हार पानी से खराब हो सकता था, जिससे श्यामू को हार ढूंढने में अधिक मुश्किल होती।

4. आग:

  • सर्दी में, आग लगने की संभावना कम होती, क्योंकि लोग घरों में ही रहते और आग जलाते।
  • बरसात में, आग लगने की संभावना अधिक होती, क्योंकि बारिश से लकड़ी और अन्य ज्वलनशील पदार्थ गीले हो जाते।exclamation

5. कहानी का माहौल:

  • सर्दी में, कहानी का माहौल शांत और ठंडा होता।
  • बरसात में, कहानी का माहौल गीला और ताज़ा होता।

2. चिड़िया फिर क्यों नहीं दिखाई दी? वे कहाँ गयी होंगी?

उत्तर : कहानी में, चिड़िया के अंडे गायब हो जाते हैं और चिड़िया फिर कभी नहीं दिखाई देती। इसके पीछे कई संभावित कारण हो सकते हैं:

1. अंडे चोरी हो गए:

  • यह संभव है कि किसी ने अंडे चुरा लिए हों। कुछ लोग पक्षियों के अंडे खाते हैं, या उन्हें पालतू जानवरों के लिए इकट्ठा करते हैं।
  • कहानी में, श्यामू को एक बंदर पर शक होता है। हो सकता है कि बंदर ने ही अंडे चुरा लिए हों।

2. अंडे नष्ट हो गए:

  • यह भी संभव है कि अंडे किसी प्राकृतिक आपदा, जैसे तूफान या बाढ़ में नष्ट हो गए हों।
  • कहानी में, आग लगने की घटना होती है। हो सकता है कि आग में अंडे भी जल गए हों।

3. चिड़िया मर गई:

  • यह भी संभव है कि चिड़िया किसी बीमारी या शिकारी जानवर के कारण मर गई हो।
  • कहानी में, चिड़िया के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है। हो सकता है कि चिड़िया पहले से ही बीमार थी और अंडे देने के बाद मर गई हो।

4. चिड़िया ने अपना घोंसला बदल दिया:

  • यह भी संभव है कि चिड़िया ने अंडे गायब होने के बाद अपना घोंसला बदल दिया हो।
  • कहानी में, चिड़िया के घोंसले के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है। हो सकता है कि घोंसला सुरक्षित नहीं था, या चिड़िया को कोई बेहतर जगह मिल गई थी।

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Chapter 3 : नादान दोस्त

FAQ’s

“नादान दोस्त” पाठ से हमें क्या सीख मिलती है?

“नादान दोस्त” पाठ से हमें सच्ची दोस्ती, मासूमियत, और आपसी समझदारी का महत्व सीखने को मिलता है। यह कहानी यह भी सिखाती है कि दोस्ती में ईमानदारी और समझ जरूरी होती है।

नादान दोस्त कहानी के पात्र कौन-कौन हैं, और उनकी दोस्ती में क्या विशेषताएँ हैं?

नादान दोस्त कहानी में मुख्य पात्र बच्चे हैं जो अपने मासूमियत और नासमझी के साथ दोस्ती निभाते हैं। उनकी दोस्ती की विशेषता उनकी ईमानदारी, सरलता, और एक-दूसरे के प्रति निष्कपट प्रेम है।

लेखक ने “नादान दोस्त” में बच्चों की मासूमियत को कैसे दर्शाया है?

लेखक ने नादान दोस्त में बच्चों के मासूमियत को उनकी सरल सोच, खेल-खिलौनों के प्रति प्रेम, और छोटी-छोटी बातों में खुशियाँ ढूँढने की क्षमता के माध्यम से दर्शाया है। उनकी नासमझी और निर्दोषता कहानी में प्रमुखता से उभर कर आती है।

नादान दोस्त कहानी में कौन-सा घटना आपको सबसे अधिक प्रभावित करती है और क्यों?

सबसे अधिक प्रभावित करने वाली घटना वह है जब बच्चे अपनी मासूमियत में किसी बड़ी परेशानी में पड़ जाते हैं, लेकिन उनकी दोस्ती और एक-दूसरे की मदद करने की भावना उन्हें उससे निकाल देती है। यह घटना दोस्ती की ताकत और मासूमियत की सुंदरता को उजागर करती है।

दोस्तों के बीच समझदारी और नासमझी को लेखक ने किस प्रकार चित्रित किया है?

लेखक ने बच्चों की समझदारी और नासमझी को उनके खेल और रोजमर्रा की गतिविधियों के माध्यम से चित्रित किया है। बच्चे एक-दूसरे की छोटी-छोटी गलतियों को माफ कर देते हैं और अपनी नासमझी के बावजूद एक-दूसरे की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं|

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_imgspot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here